देसी घी या सरसों का तेल दोनों में कौन है बेहतर

0
822

एक समय था जब भारतीय व्यंजन सरसों के तेल का देसी घी में पाया जाते थे लेकिन अब समय बदल गया है आज के दौर में ज्यादा से ज्यादा रिफाइंड ऑयल का इस्तेमाल किया जा रहा है और हम सब इस बात को बहुत अच्छी तरीके से जानते हैं कि रिफाइनरी हमारे सेहत के लिए अच्छा नहीं है लेकिन फिर भी कॉस्ट को बचाने के लिए और कंपनी के चालाक मार्केटिंग के तरीकों की वजह से हम ज्यादा से ज्यादा रिफाइंड ऑयल का इस्तेमाल कर रहे हैं लेकिन आज भी हम इसके नुकसान से भलीभांति वाकिफ होते हुए भी इसका इस्तेमाल किए जा रहे हैं क्योंकि हमें सरसों के तेल और देसी घी के फायदे के बारे में बहुत कम बताया गया है लेकिन घबराने की बात नहीं है इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप भी अपना मन बदल देंगे और रिफाइंड की जगह सरसों के तेल और देसी घी का इस्तेमाल करेंगे

रिफाइंड के नुकसान -वैसे तो टीवी ऐड में रिफाइंड की भर भर की तारीफ की जाती है लेकिन ऐसा नहीं है अधिक प्रयोग करके देखिए दो से तीन बूंद रिफाइंड ऑयल किसे सरफेस पर डाल दीजिए और 2 से 3 दिन तक उसे ऐसे ही छोड़ दीजिए दो से 3 दिन बाद आप देखेंगे की रेफैन्द गोंद की तरह हो जाएगा तो सोचिए यह आपके शरीर में जाकर देख ऐसा होता होगा रिफाइंड वाले बड़ा कारण है हमारे शरीर में वजन बढ़ाने और बेड पुलिस वालों को पढ़ाने में

बात करते हैं देसी घी की पुराने समय में खाना पकाने का एक बहुत बड़ा साधन देसी घी हुआ करता था क्योंकि देसी घी में बहुत सारी ऐसी चीजें उपलब्ध है जो कि सीधे तौर पर हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होती है चलिए जानते हैं इसके बारे में

देसी का सबसे बड़ा लाभ यह होता है कि हमारे डाइजेस्टिव सिस्टम को काफी ज्यादा इंप्रूव करता है यानी कि अगर आपका भी डाइजेशन सही नहीं है खाना सही से नहीं पता तो इसे आपको अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए

जिन लोगों को ब्लड शुगर की दिक्कत होती है उनके लिए भी देश की किसी वरदान से कम नहीं है देसी घी के नियमित प्रयोग से ब्लड शुगर जैसी समस्याएं कंट्रोल होने लगती है यानी कि ब्लड में खुलने वाले शुगर को यह काफी अच्छे तरीके से मैनेज करने में मदद करता है

त्वचा के लिए भी देसी घी काफी फायदेमंद होता है त्वचा में होने वाले रैशेज खुजली तथा चकत्तों का इलाज से किया जा सकता है असल में स्किन को प्यूरिफाई करता है तो अगर आपके साथ भी हमेशा स्किन से रिलेटेड यह समस्याएं रहती हैं तो देसी घी का प्रयोग आपको अवश्य करना चाहिए

अगर आपका पेट निकला हुआ है और आप इस निकले हुए पेट को कम करना चाहते हैं तो इसके लिए देसी घी काफी मददगार साबित हो सकता है हो सकता है आपको लगेगी देसी घी खाने से वजन बढ़ता है लेकिन ऐसा नहीं है अगर आप इस एक सीमित और व्यवस्थित तरीके से खाएं तो यह आपके निकले हुए पेट की चर्बी को कम करने में काफी मदद करता है

आंखों की रोशनी के लिए विदेशी ही काफी फायदेमंद है अगर आपको दूर दृष्टि दोष या निकट दृष्टि दोष इन दोनों में से कोई भी एक दिक्कत है तो इसके लिए आपको गाय का देसी घी खाना चाहिए जिसकी मदद से आप की आंखों की जो टिकट है या जो समस्याएं हैं वह काफी हद तक ठीक हो जाती हैं कई सारी आंखों की बीमारियों में देसी घी को डायरेक्ट आंखें भी लगाया जाता है लेकिन ऐसा करना तभी जरूरी है जब डॉक्टर इसकी आपको सलाह दे

चलिए बात करते हैं सरसों के तेल की कि किस तरीके से यह आपके लिए सहायक हो सकता है

सरसों के तेल में कई तरीके के मिनरल और विटामिंस पाए जाते हैं जिसके बारे में आज तक कहीं पर भी जिक्र नहीं किया गया है पर हमारे आयुर्वेदिक स्कल्पचर्स में इसके बारे में काफी डिटेल में बताया गया है आपको जानकर हैरानी होगी कि मार्केट में कई तरीके के ऐसे तेल उपलब्ध है जो अलग-अलग बीमारियों से लड़ने का दावा करते हैं लेकिन यह सही नहीं है पर अगर बात सरसों के तेल की करें तो सरसों के तेल में कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो शरीर में कैंसर सेल से लड़ते हैं और कैंसर की बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करते हैं जिससे शरीर में कैंसर का रूप होती है वह काफी धीमी पड़ जाती है

सरसों का तेल दिल की बीमारियों से लड़ने के लिए भी काफी मददगार साबित होता है कई सारे स्टडी में यह पाया गया है कि सरसों के तेल के नियमित सेवन से दिल की होने वाली बीमारियों में 90% तक की कमी पाई गई है यही नहीं शरीर में बनने वाले बैट कोलेस्ट्रोल को भी सरसों का तेल होता है और साथ में गुड कोलेस्ट्रॉल को भी बढ़ाता है जिसकी मदद से हमारा हृदय काफी अच्छे तरीके से काम करता है और कई सारी बीमारियों से बचा रहता है

बात करते हैं कि सरसों का तेल या देसी कि दोनों में से आपको किस चीज का सेवन करना चाहिए तो देखिए इसका जवाब बहुत ही आसान है अगर आप अपनी स्क्रीन बाल और दिल की रक्षा करना चाहते हैं स्वागत करना चाहते हैं तो आपको सरसों के तेल के साथ जाना चाहिए उसी के साथ अगर आप थोड़े ज्यादा पैसे और टेस्ट का दिन लुफ्त उठाना चाहते हैं तो आपको गाय के देसी घी का सेवन करना चाहिए वैसे तो दोनों की प्रॉपर्टी अलग अलग है लेकिन काफी हद तक दोनों में कई तरीके की समानताएं पाई जाती है जिसके अनुसार आपको यह चुनना चाहिए कि आपको देसी ही खाना चाहिए या तो फिर सरसों का तेल पर दोनों देश में एक बात निश्चित है कि आपको रिफाइंड ऑयल और इन सारी चीजों से काफी परहेज करना चाहिए क्योंकि किसी भी दृष्टि से हमारे सेहत के लिए अच्छे नहीं है देसी घी और सरसों के तेल का इस्तेमाल भी हमें एक समांतर तरीके से करना चाहिए अधिक होता है अच्छा नहीं है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here