सावन में शिव पूजन में भूल के भी ना करे ये गलतियाँ, सब कुछ हो जायेगा तहस नहस

0
908

सावन के महीने को भगवान शिव का महीना माना जाता है मान्यता यह भी है कि इस समय भोले भंडारी सभी के ऊपर प्रसन्न रहते हैं और ऐसे में अगर आप भगवान शिव से सच्चे मन से जो भी मांगे आपकी वह मनोकामना जरूर पूर्ण होती है
लेकिन इसी के साथ थोड़ा धारणा यह भी है कि अगर शिव की पूजा करते समय थोड़ी सी भी चूक हो जाए तो इसका परिणाम बहुत ज्यादा बुरा हो सकता है उदाहरण के लिए अगर आप रुद्राक्ष धारण करते हैं जो कि भगवान शिव का ही एक रूप माना जाता है की ठीक से देखभाल नहीं करते हैं तो यह रुद्राक्ष आपको फायदा करने की जगह आप को उजाड़ के रख देगा
इसलिए शिव भक्तों को कुछ ज्यादा ही सतर्क रहने की जरूरत होती है कुछ ऐसी चीजें होती हैं जो भगवान शिव के अलावा और किसी देवता को नहीं चढ़ती जैसे बेलपत्र धतूरा आंख इत्यादि तो इसलिए यह जरूरी है कि आप सावधानीपूर्वक इन चीजों का प्रयोग करें और भोलेनाथ को चढ़ाएं

सावन सोमवार की व्रत विधि सावन सोमवार की व्रत विधि इसलिए खास है क्योंकि सोमवार को भगवान शंकर का दिन माना जाता है और सावन का महीना भी भगवान शिव का माना जाता है इसलिए ऐसी मान्यता है कि सावन के सोमवार में व्रत रहने से आपकी मनोकामनाएं निश्चित रूप से पूरी होती हैं लेकिन इसके सही विधि क्या है आज हम आपको इस पोस्ट में बताने वाले हैं
सोमवार के दिन जल्दी उठकर के सूर्य उदय होने से पहले स्नान कर लेना चाहिए
शिव मंदिर में जाकर के भगवान शिव का जलाभिषेक करें उसी के साथ माता पार्वती और श्री गणेश को भी जल स्नान करवाएं क्योंकि यह दोनों भी भगवान शिव के परिवार का ही एक हिस्सा है

शिवलिंग पर भांग धतूरा आप आदि चढ़ाएं और सभी को तिलक लगाएं प्रसाद के रूप में भगवान शंकर को घी और शक्कर का भोग लगाएं और फिर इस प्रसाद को सभी जानने वालों में वितरित करते हैं
धूप व दीप से पहले भगवान गणेश की आरती करें फिर उसके बाद भगवान शिव की आरती करके प्रसाद सभी लोगों में वितरित कर दें
भगवान विष्णु को शंख बहुत प्रिय है लेकिन इसी के विपरीत शिवजी ने शंखचूर नाम के शंख चूर नाम के एक राक्षस का वध किया था इसलिए शंकर जी के लिए पूजा के दौरान शंख नहीं बजाया जाता

इसी के साथ भगवान शिव को कनेर और कमल के अलावा अन्य किसी पुष्प को नहीं चढ़ाया जाता है शास्त्रों में यह भी कहा गया है कि शिवजी को कुमकुम और रोली नहीं लगाई जाती इसी के साथ हल्दी के बारे में भी बोला गया है कि शिवलिंग पर हल्दी नहीं चढ़ाई जाती क्योंकि हल्दी का मुख्य उपयोग सौंदर्य कार्य के लिए किया जाता है परंतु हमारे भोले बाबा तो रात लपेट के ही मस्त रहते हैं ऐसे में हल्दी चढ़ाना उन्हें शोभा नहीं देता

शिव जी के ऊपर नारियल पानी से भी अभिषेक नहीं किया जाता क्योंकि नारियल को लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है और उसके पानी से यदि शिवलिंग का विषय किया जाए तो वह पीने योग्य नहीं रह जाता इसलिए नारियल ना शिव जी को चढ़ाया जाता है ना ही नारियल बने सुन का अभिषेक किया जाता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here