आचार्य चाणक्य अनुसार हर मनुष्य को कुत्ते से लेनी चाहिए ये 4 सीख, जीवन में होंगे कामयाब

0
1228

हम मनुस्य के जीवन में अनेक बातो को बताया गया है जिसमे आचार्य चाणक्य जी अपने समय के सबसे बड़े विद्वान हुआ करते थे इन्होंने मनुष्य से जुड़ी हुई बहुत सी बातें बताई हैं जो आजकल के समय में सत्य होती नजर आ रही है इनके द्वारा बताई गई हर बात कलयुग में सच साबित हो रही है आचार्य चाणक्य जी ने “चाणक्य नीति” नामक एक पुस्तक लिखी है जो की काफी हद तक आज के समय में सटीक साबित हो रही है

जिसमें मनुष्य के जीवन पर आधारित बहुत सी बातें बताई गई है अगर मनुष्य इन सभी बातों को अपने जीवन में अपनाता है तो वह अपने जीवन में एक सफल व्यक्ति बन पाएगा आचार्य चाणक्य जी ने एक साधारण से बालक को मगध का राजा बना दिया था इन्होंने जिस बालक को राजा बनाया था उसका नाम चंद्रगुप्त मौर्य था इन्होंने अपनी बुद्धिमानी से चंद्रगुप्त मौर्य को मगध का राजा बनाया था

यदि हम आचार्य चाणक्य जी द्वारा बताई गई बातें जो मनुष्य अपने जीवन में उतार लेता है उसका जीवन अवश्य सफल होता है आज हम आपको इस लेख के माध्यम से आचार्य चाणक्य अनुसार कौन सी चार सीख कुत्ते से लेनी चाहिए इसके बारे में जानकारी देने वाले हैं जो की आपके जीवन में काफी महत्वपूर्ण होने वाली है

तो चलिए जानते हैं कौन सी 4 सीख कुत्ते से लेना चाहिए

थोड़े में संतुष्ट हो जाना

हम सभी जानते है कुत्ता एक बुद्धिमान प्राणी होता है उसके अंदर संतुष्ट होने का गुण बहुत महत्वपूर्ण माना गया है कुत्ते को अधिक भूख लगने के बावजूद भी उसको जितना अन्न खाने को मिलता है वह अपने आपको उतने में ही संतुष्ट कर लेता है यहां आचार्य चाणक्य इस बात को बताना चाहते हैं कि मनुष्य को अपनी मेहनत का जितना फल प्राप्त होता है उसको उतने ही फल में संतुष्ट हो जाना चाहिए दूसरे का देख कर हमे जलन या खुद को काम नहीं आंकना चाहिए , क्युकी समय कभी भी किसी का सकता है

सतर्क रहना

आचार्य चाणक्य अनुसार कुत्ता चाहे कितनी भी गहरी नींद में सो रहा हो परंतु वह हमेशा सतर्क होता है और कुत्ते को किसी भी तरह की थोड़ी भी आवाज सुनाई देती है तो वह तुरंत उठ कर बैठ जाता है इसलिए कुत्ते का यह गुण हर मनुष्य को जरूर सीखना चाहिए क्योंकि आचार्य चाणक्य अनुसार जो व्यक्ति अपने जीवन में हमेशा सतर्क होता है तो जीवन में उसके जो भी समस्या आती है उसके लिए तत्पर होगा

स्वामी भक्ति

जैसा की उदाहरण देखने को मिलता है की कुत्ता को सबसे वफादार जिव माना गया है चाणक्य जी का कहना है कि मनुष्य जिस व्यक्ति के लिए काम करता है और उससे धन प्राप्त करता है तो उस व्यक्ति को कभी भी धोखा नहीं देना चाहिए मनुष्य को अपनी पूरी निष्ठा के साथ कार्य को ईमानदारी से कार्य करने के लिए उतरदारी होना चाहिए

वीरता

जैसा की हम कुत्ता एक बहुत ही बहादुर प्राणी होता है अगर उसके स्वामी पर किसी प्रकार की विपत्ति आती है तो वह अपनी जान को खतरे में डालकर दुश्मनों पर आक्रमण करता है और अपने स्वामी की रक्षा करता है इससे कुत्ते की वीरता का प्रदर्शन होता है चाणक्य जी का कहना है कि वीरता की सीख हमें कुत्ते से सिख सकते है जो हर किसी मनुष्य को परिवार में संकट पर एक वीर की भांति सबसे आगे खड़ा होकर किसी भी समस्या का सामना करे

तो ये थे 4 ऐसे गुड़ जिसके में बारे चाणक्य जी ने बताया है मनुस्य इन गुड़ का पालन करके काफी हद तक सुखी जीवन प्राप्त कर सकता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here