इस वजह से सपाट पैर वालों की भरती नही होती सेना में

0
1071

सेना में भर्ती की प्रक्रिया काफी जटिल होती है इसके लिए कई तरीके की शारीरिक परीक्षाओं को पास करना होता है जो इंसान एक परीक्षाओं को पास करता है उनको सेना में बतौर सैनिक भर्ती किया जाता है शायद आपको मालूम ना हो पर यहां पर एक नियम यह होता है कि आपकी बौद्धिक क्षमता से ज्यादा आपकी शारीरिक क्षमता ज्यादा महत्वपूर्ण होती है क्योंकि सैनिक किसी सेना का एक अभिन्न अंग है जिनके कारण सैनिक देश की सुरक्षा में अपना महत्वपूर्ण योगदान देते हैं

लेकिन सैन्य छाया की यह प्रक्रिया आसान नहीं होती आप भले ही कितने फिट ना हो लेकिन अगर आपके शरीर में या आपके शरीर की बनावट विशेष प्रकार की नहीं है तो आप को सेना में भर्ती नहीं किया जाएगा उन्हीं में से पहले नंबर पर आता है पैर का घुमावदार ना पैर का सपाट होना यदि आप का पाठ है कितने भी अच्छे हैं कद काठी कितनी भी सुदृढ़ हो आप को सेना में भर्ती नहीं किया जाएगा आइए जानते हैं

सपाट पैरों वाले लोगों के पैरों के निचले हिस्से में घुमाव नहीं होता। यही घुमाव एक स्प्रिंग की तरह कार्य करता है, जिसके होते आप तेज़ी से चल और भाग सकते हैं। सपाट पैरों वाले व्यक्ति ना तेज़ी से चल सकते हैं, ना ही भाग सकते हैं। साथ ही दौड़ने, कूदने जैसी गतिविधियों में समस्या आती है। इन गतिविधियों के करने से उनके पैर में दर्द भी होता है। बाद में यही दर्द, घुटनों, पीठ के निचले हिस्से और कूल्हे तक पहुंच जाता है। इस कारण शरीर के वजन का वितरण असमान हो जाता है, जो बड़ी समस्या का कारण बन सकता है।

पैरों में यह घुमाव ना होने को, हमारी सेनाओं द्वारा “शारीरिक अक्षमता” माना जाता है और यही कारण है, की भारतीय सेनाओं में सपाट पैरों वाले व्यक्तियों को भर्ती नहीं किया जाता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here