बाहुबली फिल्म की बड़ी गलतियाँ, जिसे आपने भी नही ध्यान दी होगी

0
8550

फिल्म निर्माता बड़ा हो या छोटा बड़ी बजट की फिल्म बना रहा हो गया छोटे बजट की फिल्म बना रहे हो बनाते समय उनसे अक्सर हमेशा कुछ ना कुछ गलतियां रह जाती है जिन गलतियों को सुधारा नहीं जा सकता तो आज हम आपके सामने इस पोस्ट के जरिए आपको फिल्म बाहुबली की कुछ ऐसी गलतियां बताने जा रहे हैं जिसको बनाते समय डायरेक्टर से बड़ी चूक हो गई और इस चूक को डायरेक्टर ठीक करना भूल गये

पिंडारी हमला पिंडारी हमले के समय तो आपको याद ही होगा जब लोगों को मार के पानी में फेंकने वाले डाकू जिन्हें पिंडारी कहा जाता था वह देवसेना के साम्राज्य पर हमला करते हैं नीचे देख सकते हैं कि यहां पर इस समय कोई भी नहीं था लेकिन जैसे ही कैमरा अलग होता है वहां तुरंत ही दौड़ के बहुत से लोग आजाते हैं ऐसी कौन सी ट्रिक आजमाए हैं जिससे यह पलक झपकते ही यहां पर आकर खड़े हो

गए खैर आपको बता दें कि कुछ और नहीं बल्कि उन्हें वहां खड़ा करने के लिए कैमरे के अंकल को बदला गया था पर डायरेक्टरों से ही छोटी सी भूल छुप नहीं सकतीके बाहुबली यानी कि कटप्पा आ जाते हैं समझ में नहीं आता है हवाई जहाज से आए हैं प्रकट हुए हैं

पानी में बच्चे को लेने वाला सीन बाहुबली का यह सीन काफी ज्यादा फेमस हुआ था लेकिन फिल्मकारो ने  यहां पर भी एक गलती कर दी फिल्म बनाते समय उन्होंने इस बात का ध्यान नहीं रखा कि अगर कोई इतनी तेज धारा की पानी में बढ़ेगा तो उसे बहता हुआ फिल्माया जाए

लेकिन अगर आप फिल्म को ध्यान से देखें तो आप पाएंगे कि महारानी वहीं पर खड़ी थी हद तो तब हो जाती है जब पानी में एक शख्स आता है और बच्चे को लेता है इस दौरान जिस तरीके से को पकड़ा था वैसे ही महारानी को भी पकड़ सकता था पर पानी में बह जाती है ऐसा क्या था कि बच्चे को पकड़ते समय पानी में 2 घंटे तक एक जगह पर खड़ी थी अगर थोड़ा सा भी दिमाग लगाया है तो समझ में आता है कि यहां पर डायरेक्टरों को थोड़ा करके इस सीन को फिल्म आना चाहिए था

पानी वाले दृश्य में एक गलती और देखने को मिलती है कि जो शख्स बच्चे को बचाने आता है वह पानी में चलते हुए आता है लेकिन महारानी पानी में डूबी हुई है अगर शक पानी में चल सकता है तो महारानी डूब कैसे रही है महारानी भी तो चाहे तो खड़ी होकर से चलकर नदी को पार कर सकती थी लेकिन भाई फिल्मी दुनिया है यहां कुछ भी मुमकिन है

एक और गलती देखने को मिलती है जब देवसेना को राज्य से निष्कासित कर दिया जाता है उसके बाद वह दर्शन करने के लिए महादेव के मंदिर जाती है लेकिन रास्ते में भल्लालदेव की सैनिक उसे रोक करके उसके साथ बदसलूकी करते हैं

वहां पर देवसेना उसी के सैनिकों की खंजर से उसकी उंगली काट देती है लेकिन आपने क्या ध्यान दिया है 4 उंगली कट जाती है अंगूठा कट जाता है लेकिन उसके बावजूद उसके हाथ से खून का एक कतरा नहीं करता जो यह दर्शाता है कि फिल्म बनाते समय यह छोटी बातें कितनी ज्यादा महत्वपूर्ण होती है

जब कटप्पा बाहुबली के पुत्र को उसकी सच्चाई के बारे में बताता है तू किले में जाकर के लड़ाई करने जाता है और वहां पर हजारों तीर बाहुबली की सेना के ऊपर दागी जाती है लेकिन उसमें से एक भी तीर बाहुबली को नहीं लगती

लेकिन जरा नीचे फोटो में देखिए जब बाहुबली दरवाजे की तरफ दौड़ते हैं तो दूर-दूर तक कोई नहीं दिखाई देता लेकिन जैसे ही कैमरा एंगल बदलता है वहां पर कटप्पा मामा आ जाते हैं और उन्हीं के साथ उनकी पूरी सेना भी अचानक से आ जाती है तो भैया ये लोग आये कहाँ से से आसमान से गिरे जमीन से प्रकट हुए

आपको शायद वो सीन याद होगा जब अवंतिका आराम करने के लिए अपने हाथों को पानी में डालती है लेकिन जब आप ऊपर से देखते हैं तो वह सिर्फ अपना हाथ का पंजा पानी में डालती है लेकिन जब कैमरा बदलता है तो वहां केवल पंजा नहीं बल्कि उसका पूरा हाथ पानी के अंदर दिखाई देता है जैसा कि आप नीचे की फोटो में देख सकते हैं

देवसेना और बाहुबली के युद्ध वाला सीन तो याद ही होगा जिसमें बाहुबली एक सूत्र की सहायता से दुश्मनों के ऊपर युद्ध करते हैं लेकिन वह चीज को ध्यान से देखिए जब देवसेना बाहर आती हैं तो उनके पास गिनती के तीन से चार तीन रहते हैं

और बाहुबली के पास तकरीबन 10-15 थी लेकिन एक बार में सात से आठ तीन और तकरीबन चार से पांच बार का शार्ट उसके बाद भी इनके पास उतनी ही अच्छी लगती है आखिरी आखिरी थी या जिन्होंने पहना था उसमें अपने आप निकल आती थी इस बात पर ध्यान देना जरुरी नही समझा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here